‪रामनवमी नोट्स‬

  • रोड किनारे हनुमान जी के मंदिर पर मजमा लगा है।
  • लखबीर सिंह लख्खा गलाफाड़ू आवाज में जय श्री राम के नारे लगा रहे हैं। (ऑडियो बज रहा है)
  • डीजे और लाउड स्पीकर जोरों से चिल्ला रहे हैं।
  • पूरा रोड लाल और केसरिया झंडों से पटा पड़ा है। 
  • कोई बीच-बीच में साउंड बढ़ा दे रहा है। 
  • दो सरदार जी लोग हनुमान जी की सेवा में लगे हैं।
  • कार्यक्रम का आयोजन टेम्पो चालक संघ ने किया है। 
  • भरी दोपहरी में मुश्किल से 15 लोग भी नहीं है। 
  • लेकिन डीजे वाले ने पूरा माहौल बना रखा है। 
  • मुझे अपने गांव वाले गोपाल जी याद रहे हैं, जो घुचुल पंडित जी को चिढ़ाने के लिए कहते थे, रामदूत अतुलित बल धामा, छटकल टांग फटल पयजामा।
  • हनुमान जी श्री राम - श्री राम भजते थे।
  • बजरंग दल वाले जय श्री राम - जय श्री राम चिल्लाते हैं। 
  • मरने के बाद चार कंधों पर सवार मुर्दे को बैकुंठ मिले, इसलिए लोग राम-राम ही भजते हैं।
       15.04.2016


Comments