KHATO KI AAWAJAHI

मानवी दुनिया को सुरक्षित करने के बहाने जब प्रेम, खुशी और गम जताने वाले शब्द फिल्टर होने लगे तो सात समंदर पार से उसने आभासी दुनिया में सावर्जनिक रूप से प्रेम जताना छोड़ दिया, वो जानता था कि जासूसों की गिद्ध नजर से उसकी निजता बच नहीं पाएगी। उसने आभासी दुनिया से विदा ले ली.. और अपने महबूब के लिए खत लिखना शुरू किया.. इस तरह प्रेम में भीगे शब्दों को सहेजे खतों की आवाजाही बढ़ गई ...
22-01-2013

Comments