मैं एक शहर में डूबने से डरता हूं..

Courtesy_Google
मैंने उत्तराखंड नहीं देखा
मैंने टिहरी भी नहीं देखा
इसलिए मैं तबाही की कल्पना करता हूं, 
तो कंपकंपी सी होने लगती है
लेकिन मैं दिल्ली से डरता हूं
दिन रात बराबर 
जैसे बच्चे अंधेरी रातों में भूतों से 
वो शहर जो एक नदी को लील रहा है
दिन रात बराबर
मैं डर के मारे दरवाजे बंद कर लेता हूं..
गांव, कस्बों की ओर चला जाता हूं
मैं एक शहर में डूबने से डरता हूं..

24.06.2013

Comments