मानसून के लिए

courtesy_ Google
डाकिए के मार्फत
एक लिफाफा आता रहा
मानसून के लिए..
मैं लौटाता रहा
लौटाता रहा..

बरसों बाद
बुकसेल्फ से एक नोटबुक गिरी
हवा के थपेड़ों से..टकराकर
चंद नज्मों के साथ
गुलाब का एक सूखा फूल
अपनी गर्माहट बचाए हुए था
मानसून के लिए..

कागज के निचले छोर पर
डॉट डॉट करके ...लिखा था
वाक्यांश के एक शब्द बताओ
जिसकी उपमा ना दी जा सके

लंबे वक्त से
हवा में खामोशी तैर रही है
कोई जवाब ना आया.
मानसून की ओर से..

24.03.2013


Comments