शब्दों का स्वेटर

सैंकड़ों मीटर में फैले रेलवे स्टेशन पर
photo courtesy_google
धूल भरी हवाओं के बाद
बारिश का सिलसिला
प्लेटफॉर्म पर टिमटिमाती बत्तियों की रोशनी में
बादलों ने चौपाल लगाई
और, धीमी रोशनी के उजियारे में
रात ने स्याह चोला पहना
हल्की फुहारों की हवाओं संग बहने की जिद
नंगे फर्श पर सोए लोगों के पास
मैली और फटी चादरें थीं
चुभती हुई उदास रात में
शब्दों का स्वेटर बुनना
गरमाहट भरा था..

हिसार, 19 मई, 2012

Comments