तुम्हारी छुअन से

उस रात की महफिल के बाद.

जगह की कमी से..

तुम सोई थी मेरे बगल में.

जिस्म सिहर उठा..

तुम्हारी इक छुअन से...
                         

Comments